5 भारतीय मूल के क्रिकेटर जिन्होंने दूसरे देशों की कप्तानी की

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

ये बात अब कॉमन हो चली है कि एक खिलाड़ी जो  किसी अन्य देश का होता है, लेकिन वह अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर किस अन्य देश का प्रतिनिधित्व करता है। हालाँकि कई बार ऐसा भी हुआ है। जब इन खिलाड़ियों को अपनी टीम की कप्तानी करने का मौका भी मिल है।

बीते कई सालों से कई ऐसे भारतीय खिलाड़ी हुए हैं, जिन्होंने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत के बजाय अन्य देश के लिए खेला और वहां की कप्तानी भी की। इनमें से कुछ को इसमें काफी सफलता मिली और कुछ इस जिम्मेदारी को बढ़िया से नहीं निभा पाए।
आइये एक नजर डालते हैं, ऐसे 5 भारतीय मूल के खिलाड़ियों पर जिन्होंने अन्य देशों की कप्तानी संभाली:

#5 आसिफ करीम, केन्या

#4 आशीष बगाई, कनाडा

भारतीय मूल के विकेटकीपर बल्लेबाज़ आशीष बगाई पिछले 10 साल से कनाडा के लिए अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेल रहे हैं। कनाडा के लिए 62 वनडे और 9 टी-20 मैच खेल चुके बगाई का औसत वनडे में 38 का और छोटे प्रारूप में 40 का रहा है।

आशीष बगाई ने साल 2007 से 2013 तक टीम की कप्तानी भी की है। जिसमें उन्होंने 27 वनडे और 4 टी-20 में कप्तानी की है। बगाई की कप्तानी में कनाडा ने 8 वनडे और एक टी-20 मैच जीता था।

आशीष बगाई को अंतिम बार अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में साल 2014 में टी-20 वर्ल्डकप के क्वालीफ़ायर में बतौर कप्तान खेलते हुए देखा गया था।

#3 रोहन कन्हाई, वेस्टइंडीज

वेस्टइंडीज के दिग्गज रोहन कन्हाई भारतीय मूल के बेहतरीन खिलाड़ियों में से एक थे, जिन्होंने अन्य देश के लिए खेला था। कन्हाई एक जीनियस बल्लेबाज़ थे। जिन्होंने 79 टेस्ट में 6000 से ज्यादा रन बनाये थे।

इस मास्टर बल्लेबाज़ ने 1972/73 और 1973/74 के सीजन में वेस्टइंडीज की 13 मैचों में कप्तानी भी की थी। कप्तानी के दौरान रोहन को अच्छी सफलता मिली थी। उन्होंने 3 टेस्ट में जीत हासिल किया था और 7 मैच ड्रा हुए थे। इसके अलावा वह वनडे में वेस्टइंडीज की कप्तानी करने वाले पहले कप्तान भी थे।

कन्हाई ने अंतिम बार वेस्टइंडीज की कप्तानी इंग्लैंड के खिलाफ पोर्ट ऑफ़ स्पेन में की थी।

#2 हाशिम अमला, दक्षिण अफ्रीका

दक्षिण अफ्रीका के बेहतरीन बल्लेबाज़ हाशिम अमला भारत के गुजरात से ताल्लुक रखते हैं। अमला इस पीढ़ी के बेहतरीन बल्लेबाजों में से एक हैं जो लगातार सभी प्रारूपों में रन बना रहे हैं।

इस कलात्मक बल्लेबाज़ ने वनडे और टेस्ट में प्रोटियाज़ टीम की कप्तानी भी की है। उन्होंने 14 टेस्ट मैच में अपनी टीम को 4 में जीत और इतने में हार भी दिलाया है। अमला ने अपनी राष्ट्रीय टीम की 9 वनडे और 2 टी-20 में कप्तानी भी की है।

अभी उनकी उम्र 33 वर्ष की है ऐसे में अमला को आगे भी कप्तानी करने का मौका मिल सकता है।

#1 नासिर हुसैन, इंग्लैंड

इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर नासिर हुसैन का करियर बेहतरीन रहा है। भारत के चेन्नई शहर में जन्में हुसैन ने इंग्लैंड की टीम में जगह बनाने के लिए लम्बा संघर्ष किया। लेकिन जब उन्हें मौका मिला तो उन्होंने उसे अच्छे से भुनाया।

इंग्लैंड के बेहतरीन कप्तानों में से एक नासिर ने एक दशक के अन्तराल में 45 टेस्ट और 56 वनडे में अपनी टीम की कप्तानी की। जिसमें अंग्रेज टीम को 17 टेस्ट में और 28 वनडे में जीत हासिल हुई। जिसमें ज्यादातर जीत विदेशी सरजमीं पर मिली थी।

इंग्लैंड के लिए हुसैन जब अपना आखिरी टेस्ट खेला था, तब उनके कप्तान मार्कस ट्रेस्कोथिक थे।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *